कटहल: शाकाहारियों के लिए मांस का स्वादिष्ट विकल्प
भारत विविधताओं का देश है। अनेक भाषाएँ, अनेक मत, अनेक संस्कृति और अनेक खान-पान एवं व्यंजन-विधियाँ। दुनियाँ ने जब पहली बार वनस्पतिक मांस (ऐसा मांस जो पशुओं पर अत्याचार और उनकी हत्या के बिना प्राप्त किया जाए) के बारे में सोचा होगा उससे युगों पहले से भारत के शाकाहारियों के बीच उनका अपना पसंदीदा ‘कटहल’ की सब्ज़ी मांस के स्वादिष्ट विकल्प के रूप में मौजूद है।

कटहल की बात आते ही मुझे अपने अपने बचपन की एक स्मृति याद हो आती है। मैं भारत के उत्तरी हिस्से से आता हूँ, जहाँ होली का त्यौहार अत्यधिक हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। चूँकि हमारे परिवार में शाकाहारी अधिसंख्य थे, इस पर्व पर (अमूमन मांस के बदले) कटहल की सब्ज़ी बनाई जाती थी जिसे खाकर इस अवसर पर आने वाले ईष्ट-मित्र अंगुली चाटते रह जाते थे और कहते थे, "वाह! यह मांस से थोड़ा भी कम नहीं है। कटहल भारत के इस हिस्से में ‘शाकाहारियों के मांस’ के रूप में अत्यंत लोकप्रिय है और आप इसका आनंद अनेक पकवानों एवं व्यंजनों के रूप में ले सकते हैं।

कटहल भारतीय व्यंजनों का अद्वितीय हिस्सा रहा है और अब यह भारत की अर्थव्यवस्था में भी योगदान करने जा रहा है। पूर्वोत्तर राज्य मेघालय ने कटहल में निहित आर्थिक क्षमताओं को तलाश करने का प्रस्ताव दिया है। द हिन्दू बिजनेस लाइन के अनुसार मेघालय (जिसका शाब्दिक अर्थ है वर्षा का घर),‘मिशन जैकफ़्रूट’ के माध्यम से राज्य के नागरिकों की आजीविका सुधारने का लक्ष्य कर रहा है। पोषण एवं खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित करने के अतिरिक्त, यह पंचवर्षीय योजना कटहल उत्पादों की मूल्य-शृंखला निर्मित कर रोजगार के अवसरों का सृजन करेगी। यह मिशन राज्य के 82,000 किसानों के जीवनस्तर में निखार लाने पर केन्द्रित होगा।

मेघालय राज्य सरकार का यह कदम निश्चित रूप से प्रशंसनीय है। सामाजिक एवं आर्थिक लाभों के अतिरिक्त, यह परियोजना फ़ैक्ट्री फ़ार्मों पर घोर पीड़ा के शिकार अनगिनत पशुओं के जीवन में भी सकारात्मक अंतर उपस्थित करेगा। खाने के लिए पाले जाने वाली गायों, सूअर, भेंड़, मुर्गे-मुर्गियों को असहनीय अत्याचारों से गुजरना पड़ता है। अनेक पशुओं को इतने तंग और गंदे पिंजरों में ठूँसकर रखा जाता है, जहाँ वे मुश्किल से घूम सकें। उनके साथ मार-पीट, बिना किसी दर्दनिवारक दवा के अंगभंग के बाद अंत में नृशंस हत्या कर दी जाती है।

जब भी आप खाने के लिए बैठते हैं आप एक महत्वपूर्ण चयन करते हैं। मांस के बदल कटहल एवं अन्य सब्ज़ियों को अपने भोजन में शामिल कर आप कई जीवों को फ़ैक्ट्री-फ़ार्मों के नारकीय जीवन से बचाते हैं। वनस्पति आधारित आहार न केवल (खाने के लिए) पाले जाने वाले पशुओं की मदद करता है बल्कि यह आपके स्वास्थ्य एवं पर्यावरण के लिए भी उपयोगी है।

तो आप किस बात की प्रतीक्षा कर रहे हैं? दयापूर्ण, स्वस्थ्य एवं दीर्घकालिक वनस्पतिक जीवन शैली अपनाने के लिए तैय्यार हैं? यहाँ क्लिक कर देखिए कटहल की कुछ मजेदार व्यंजन-विधियाँ। हमारा मुफ़्त शाकाहारी स्टार्टर गाइड डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक कीजिए। 
व्यंजनों, नए उत्पाद टिप्स, और बहुत कुछ के साथ सूचित रहें
और शाकाहारी समाचार