विशेष डाइट

गर्भावस्था

एक शाकाहारी डाइट सभी उम्र के लोगों के लिए उचित होता है, जिसमें गर्भवती महिलाएं भी शामिल हैं। क्योंकि पोषक तत्वों की ज़रूरत इस दौरान बढ़ जाती है, एक गर्भवती महिला को प्रचुर मात्रा में पोषक तत्व लेने की आवश्यकता होती है। उसे इस बात का भी ध्यान रखना पड़ता है कि उसका वज़न स्वस्थ रूप से बढ़े (औसतन 25-35 पौंड तक)।

यह ध्यान रखना चाहिए कि महिला को पर्याप्त मात्रा में विटामिन सी युक्त खाद्य पदार्थों (फल, शिमला मिर्च, ब्रोकोली, और गोभी आदि) के साथ साबुत सब्ज़ियों की एक विविधता प्राप्त हो। उसे बीन्स, दालों, मटर, मेवों, मेवों के मक्खन, बीज, और हरी पत्तेदार सब्ज़ियों के माध्यम से प्रोटीन मिलना चाहिए। ओमेगा-3 वसा मस्तिष्क के तेज़ विकास के लिए फ्लैक्स, हेम्प, चिया बीज, अखरोट, सोया उत्पादों, और हरी पत्तेदार सब्ज़ियों के माध्यम से मिलना चाहिए। और आयरन से भरपूर खाद्य पदार्थ, जैसे बीन्स, हरी पत्तेदार सब्ज़ियाँ, समुद्री सब्ज़ियाँ और दालों का सेवन करना चाहिए।


बच्चे

विविध और साबुत खाद्य पदार्थों से युक्त शाकाहारी भोजन माता-पिता द्वारा अपने बच्चों के लिए सबसे बड़ा उपकार है। एक आदर्श बनकर, घर में स्वस्थ और अनेक स्वादिष्ट विकल्पों का प्रयोग करके अपने बच्चो को फलों, सब्ज़ियों, दालों, अनाज, नट्स और बीज (और एक विटामिन बी१२ का सप्लीमेन्ट) देकर विविध पदार्थों से युक्त खाना खाने के लिए प्रोत्साहित करें। स्कूल, पार्टियाँ, खेल के कार्यक्रम जैसी सामाजिक स्थितियाँ सबसे बड़ी चुनौतियाँ होती हैं। इनके लिए पहले से तैयारी करके रखें।

एथलीट

क्योंकि प्रशिक्षण और प्रदर्शन के लिए उच्च मात्रा में ऑक्सीजन की ज़रूरत होती है, एथलीट एंटीऑक्सीडेंट और फाइटोकेमिकल्स आहार पर ज़ोर देते हैं। ऊर्जा की ज़रूरतों को पूरा करने के लिए पर्याप्त कैलोरी व रंगीन फलों और सब्ज़ियों से भरपूर शाकाहारी आहार एक खिलाड़ी के लिए आदर्श होता है।

अगला पृष्ठ
व्यंजन